1 0
post icon

क्षमा-याचना – केवलज्ञान की सीढ़ी

क्षमा याचना   केवलज्ञान की सीढ़ी
जो व्यक्ति मृगावती या तो चंडरुद्राचार्य के शिष्य की तरह निर्विवाद क्षमा-याचना करते हैं, वे केवलज्ञान पाते हैं| धर्मसागर उपाध्याय की तरह छोटे-बड़े का भेद भूलकर क्षमा याचना करनेवाला सर्वत्र शांति और समाधि की सौरभ को फैला सकता है और संवत्सरी प्रतिक्रमण जैसी महान धर्मक्रिया को प्राणवन्त बना सकता है| Continue reading “क्षमा-याचना – केवलज्ञान की सीढ़ी” »

Leave a Comment
post icon

Motivational Wallpaper #42

निराश मत हो उषा से पूर्व घोर अंधकार होता है

Standard Screen Widescreen Mobile
800×600 1280×720 iPhone
1024×768 1280×800 iPad
1400×1050 1440×900
1600×1200 1920×1080  
  1920×1200  
  2560×1440  
  2560×1600  

Continue reading “Motivational Wallpaper #42” »

Leave a Comment
post icon

दुर्गति की दिशा में

दुर्गति की दिशा में

आसुरीयं दिसं बाला, गच्छंति अवसा तमं

अज्ञ जीव विवश होकर अन्धकाराच्छदन
आसुरी गति को प्राप्त होते हैं

जिनमें सम्यग्बोध नहीं है, वे गुलाम बन जाते हैं और फलस्वरूप दुर्गति को प्राप्त होते हैं| Continue reading “दुर्गति की दिशा में” »

Leave a Comment
post icon

Quote #19

अच्छे विचार रखना भीतरी सुन्दरता है |
स्वामी रामतीर्थ
Leave a Comment
post icon

बात लम्बी न करें

बात लम्बी न करें

निरुद्धगं वा वि न दीहइज्जा

थोड़े में कही जानेवाली बात को व्यर्थ ही लम्बी न करें

बुद्धिमान लोग सदा अपनी बात को नपे-तुले शब्दों में प्रस्तुत करते हैं| वे आवश्यक वाणी का ही प्रयोग करते हैं| वाणी का अनावश्यक विस्तार करके अपना और दूसरों का बहुमूल्य समय नष्ट करना वे उचित नहीं समझते| Continue reading “बात लम्बी न करें” »

Leave a Comment
post icon

दुष्कर कुछ नहीं

दुष्कर कुछ नहीं

इह लोए निप्पिवासस्स,
नत्थि किंचि वि दुक्करं

इस संसार में जो निःस्पृह है, उसके लिए कुछ भी दुष्कर नहीं है

इस संसार में सबसे बड़ी बाधा अपनी आसक्ति है – स्पृहा है – इच्छा है – वासना है | जो अनासक्त नहीं है, वह अपने कर्तव्य का पालन नहीं कर सकता – जो स्वार्थी है, वह परोपकार या परमार्थ नहीं कर सकता| Continue reading “दुष्कर कुछ नहीं” »

Leave a Comment
post icon

सोचकर बोलें

सोचकर बोलें

अणुचिंतिय वियागरे

सोचकर बोलें

इस दुनिया में मौन रहने से काम नहीं चल सकता| व्यवहार के लिए कुछ-न-कुछ सबको बोलना पड़ता है| पशु पक्षी भी बोलते हैं| उनकी भाषा अलग होती है, संकेत अलग होते हैं; जिनके माध्यम से वे अपनी भावनाओं को प्रकट करते हैं – आवश्यकताओं की अभिव्यक्ति करते हैं| Continue reading “सोचकर बोलें” »

Leave a Comment
post icon

क्रोध का नाश

क्रोध का नाश

उवसमेण हणे कोहं

क्रोध को शान्ति से नष्ट करें

क्रोध को क्रोध से नष्ट नहीं किया जा सकता| आग को आग से कैसे बुझाया जा सकता है ? आग को बुझाने के लिए जल चाहिये | इसी प्रकार क्रोध को नष्ट करने के लिए शान्ति चाहिये| Continue reading “क्रोध का नाश” »

Leave a Comment
post icon

आरंभ से बच्चों में संस्कार डालें

आरंभ से बच्चों में संस्कार डालें
1. शरीर और वस्त्रों की सफाई का पूरा ध्यान रखना|

2. भोजन से पहले और बाद में मुँह हाथ साफ करना|

3. पेट, दांतों, बालों तथा हाथों को सदा साफ रखना| Continue reading “आरंभ से बच्चों में संस्कार डालें” »

Leave a Comment
post icon

लोभ को छोड़िये

लोभ को छोड़िये

लोभमलोभेण दुगंछमाणे
लद्धे कामे नाभिगाहइ

लोभ को अलोभ से तिरस्कृत करनेवाला साधक प्राप्त कामों का भी सेवन नहीं करता

लोभ एक कषाय है| वह क्रोध, अभिमान और माया की तरह आत्मा को कलुषित करता है – उसकी साधना में बाधक बनता है| जैसे अन्य कषाय आत्म-शुद्धि के लिए त्याज्य हैं, वैसे ही लोभ भी त्याज्य है| Continue reading “लोभ को छोड़िये” »

Leave a Comment
Page 1 of 6712345...102030...Last »