1 0
post icon

24 तीर्थंकर

Sorry, this article is only available in English. Please, check back soon. Alternatively you can subscribe at the bottom of the page to recieve updates whenever we add a hindi version of this article.

Leave a Comment
post icon

कवडयक्ष

Sorry, this article is only available in English. Please, check back soon. Alternatively you can subscribe at the bottom of the page to recieve updates whenever we add a hindi version of this article.

Leave a Comment
post icon

Quote #14

Fastest way to make the world better is to make you better.
Unknown
Leave a Comment
post icon

Quote #16

We are who we decide to be.
Unknown
Leave a Comment
post icon

कामासक्ति को छोड़िये

कामासक्ति को छोड़िये

कामाणुगिद्धिप्पभवं खु दुक्खं

निश्‍चयपूर्वक कहा जा सकता है कि दुःख कामासक्ति से उत्प होता है

दुःख का जन्म कहॉं होता है ? कामना के क्षेत्र में; इच्छा की भूमि पर| जहॉं कामनाएँ हैं, विविध विषयों को प्राप्त करने की लालसाएँ हैं; वहॉं शान्ति का अस्तित्व कैसे रह सकता है ? Continue reading “कामासक्ति को छोड़िये” »

Leave a Comment
post icon

Lord Rishabhdev’s Initiation

Sorry, this article is only available in English. Please, check back soon. Alternatively you can subscribe at the bottom of the page to recieve updates whenever we add a hindi version of this article.

Leave a Comment
post icon

क्यारे मुने मिलश्ये

Listen to क्यारे मुने मिलश्ये

क्यारे मुने मिलश्ये माहरो संत सनेही?
क्यारे मुने मिलश्ये माहरो संत सनेही?
संत सनेही सुरीजन पाखे राखे न धीरज देही
क्यारे मुने मिलश्ये माहरो संत सनेही?

…क्यारे.१

Read the lyrics

Leave a Comment
post icon

मूलडो थोडो भाई व्याजडो घणोरे

Listen to मूलडो थोडो भाई व्याजडो घणोरे

रातडी रमीने अहियांथी आविया ॥ए देशी॥
मूलडो थोडो भाई व्याजडो घणोरे,
केम करी दीधोरे जाय?
तलपद पूंजी में आपी सघलीरे,
तोहे व्याज पूरुं नवि थाय

…मूलडो.१

Read the lyrics

Leave a Comment
post icon

भवतृष्णा का त्याग

भवतृष्णा का त्याग

भवतण्हा लया वुत्ता, भीमा भीमफलोदया

संसार की तृष्णा भयंकर फल देनेवाली एक भयंकर लता है

भवतण्हा तृष्णा अर्थात् संसार के प्रति आसक्ति एक लता है – ऐसी भयंकर लता, जिसमें भयंकर फल उत्प होते हैं| Continue reading “भवतृष्णा का त्याग” »

Leave a Comment
post icon

कृत – अकृत

कृत   अकृत

कडं कडेत्ति भासेज्जा, अकडं नो कडेत्ति य

किये हुए को कृत और न किये हुए को अकृत कहना चाहिये

इस सूक्ति में यथार्थ वचन का स्वरूप समझाया गया है| गुरु के सन्मुख विनयभाव का सूचन करते हुए आपने जो काम किया हुआ है, वह ‘कृत’ है और जो काम नहीं किया हुआ है, वह अकृत है| जो कृत है उसे कृत कहा जाये और जो अकृत है, उसे अकृत| Continue reading “कृत – अकृत” »

Leave a Comment
Page 1 of 6712345...102030...Last »