post icon

मोह और दुःख

मोह और दुःख

लुप्पंति बहुसो मूढा, संसारम्मि अणंतए

अनन्त संसार में मूढ बहुशः लुप्त (नष्ट) होते हैं

‘मूढ़’ का अर्थ है – मोहग्रस्त| जिनके मन में मोह भरा होता है, वे व्यक्ति इस अनन्त संसार में अनेक प्रकार से दुखी होते है|

जिस वस्तु पर मोह पैदा हो जाता है, वह यदि न मिले तो उसे पाने के लिए निरन्तर प्रयास किया जाता है और उसमें औचित्य का या नीतिधर्म का भी ध्यान नहीं रखा जाता – इस प्रकार व्यक्ति धर्मनष्ट तो होता ही है, साथ ही जब तक अभीष्ट वस्तु प्राप्त नहीं हो जाती; तब तक अशान्त भी रहता है|

अभीष्ट वस्तु प्राप्त होने पर भी मन को पूरी शान्ति नहीं मिल पाती; क्यों कि तब उसे सँभालने की – नष्ट न होने देने की – चारों से उसकी रक्षा करने की चिन्ता सिरपर सवार हो जाती है| कुछ लोग उसे मॉंगने आते हैं, सो यदि उन्हें वह वस्तु दे दी जाये तो बिगड़ने की शंका रहेगी और न दी जाये – देने से इन्कार कर दिया जाये; तो मित्रों के ‘शत्रु’ बन जाने का डर रहता है|

इसलिए मोह छोड़े बिना इस संसार में दुःख नहीं छूट सकता|

- उत्तराध्ययन सूत्र 6/1

Did you like it? Share the knowledge:


Advertisement

No comments yet.

Leave a comment

Leave a Reply

Connect with Facebook

OR