post icon

क्रोध का नाश

क्रोध का नाश

उवसमेण हणे कोहं

क्रोध को शान्ति से नष्ट करें

क्रोध को क्रोध से नष्ट नहीं किया जा सकता| आग को आग से कैसे बुझाया जा सकता है ? आग को बुझाने के लिए जल चाहिये | इसी प्रकार क्रोध को नष्ट करने के लिए शान्ति चाहिये|

यदि क्रोध को भड़काने वाले कारणों से दूर रहें; तो क्रोध पर विजय पायी जा सकती है| यदि क्रोधी के सामने प्रसन्नचित व्यक्ति शान्ति से खड़ा हो जाये तो क्रोधी उसका कुछ नहीं बिगाड़ सकता| प्रशान्त मनोवृत्ति वाले धीर-वीर समर्थ सत्पुरुष के सामने क्रोधी का क्रोध अधिक समय तक टिक ही नहीं सकता | ऐसे स्थल पर गिरा हुआ अंगारा, जहॉं घास न हो, क्या स्वयं ठण्डा नहीं हो जाता ?

यदि किसी समय क्रोध आ जाये; तो हमें उसके परिणामों पर विचार करना चाहिये| यदि वह संभव न हो; तो मन-ही-मन एक से सौ तक गिनती करनी चाहिये| इससे क्रोध नष्ट हो जायगा| गिनती करने का मतलब अपने मन को अन्यत्र मोड़ना है| गिनती के बदले अपने इष्टदेव का नामस्मरण भी किया जा सकता है| नामस्मरण के बदले एक सौ आठ मनकों वाली एक माला भी फिराई जा सकती है| जो भी संभव हो, करना चाहिये| इससे मन शान्त होता है और शान्ति से क्रोध का नाश !

- दशवैकालिक सूत्र 8/36

Did you like it? Share the knowledge:


Advertisement

No comments yet.

Leave a comment

Leave a Reply

Connect with Facebook

OR