post icon

खून का दाग खून से नहीं धुलता

खून का दाग खून से नहीं धुलता

रुहिरकयस्स वत्थस्स रुहिरेणं चेव
पक्खालिज्जमाणस्स णत्थि सोही

रक्त-सना वस्त्र रक्त से ही धोया जाये तो वह शुद्ध नहीं होता

आग को आग से नहीं बुझाया जा सकता| कुत्ता यदि हमें काट खाये; तो इसका उपचार यह नहीं हो सकता कि हम भी कुत्ते को काट खायें| इसी प्रकार गाली का बदला गाली से या मारपीट का बदला मारपीट से नहीं चुकाया जा सकता|

हम सब अच्छी तरह से यह जानते हैं कि क्रोध को क्रोध से शान्त नहीं किया जा सकता| यदि सामने वाला क्रोध कर रहा हो और हम भी उससे क्षुब्ध हो कर क्रोध करें तो इससे उसका क्रोध और भी भड़क उठेगा-शान्त होने की तो बात ही क्या?

हम शान्ति, प्रेम और सहिष्णुता के बल पर ही दूसरे का क्रोध शान्त कर सकते हैं|

यही बात मार-पीट एवं हत्या के लिए भी कही जा सकती है, जो क्रोध के ही परिणाम-स्वरूप होती है| ऐसे स्थान पर विशेष प्रेम, सहानुभूति एवं धैर्य का परिचय देना होता है| जो साधक इस परीक्षा में उत्तीर्ण हो जाता है; वही दूसरों को प्रभावित कर सकता है| वह जानता है कि मारपीट के बदले मारपीट करना उपचार नहीं है – खून का दाग़ खून से नहीं धुलता !

- ज्ञाताधर्म कथा 1/5

Did you like it? Share the knowledge:


Advertisement

No comments yet.

Leave a comment

Leave a Reply

Connect with Facebook

OR