post icon

अन्यथा मुक्ति नहीं

अन्यथा मुक्ति नहीं

कडाण कम्माण न अत्थि मोक्खो

कृत कर्मों का (फल भोगे बिना) छुटकारा नहीं होता

यदि दीपक की लौ पर कोई अपनी उँगली रखे तो क्या होगा ? उष्णता का अनुभव होगा और वह जलने लगेगी| जलन का अनुभव होगा और वह जलने लगेगी| जलन का अनुभव होने पर यदि उँगली दीपक की लौ से हटा भी ली जाये तो भी उसकी वेदना कुछ दिनों तक होती रहेगी|

यही बात कर्मों के विषय में कही जा सकती है| यदि कोई कर्म करता है; तो उसकी आत्मा उससे बँध जाती है| शुभ कर्मों का भी बन्ध होता है और अशुभ कर्मों का भी| बेड़ी सोने की बनी हो या लोहे की, बॉंधेगी अवश्य| जिस व्यक्ति को बेड़ी पहनाई जाती है, उसे निर्धारित अवधि तक बन्धन में रहने के बाद ही मुक्ति मिलती है और मुक्ति मिलने तक उसे यातना भोगनी पड़ती है| इसी प्रकार शुभाशुभ कर्मों का बन्धन भी निर्धारित अवधि तक रहता है और जब तक रहता है, तब तक उसकी वेदना भोगनी पड़ती है – चाहे वह अनुकूल (सुख) हो, चाहे प्रतिकूल (दुःख)|

शुभाशुभ कर्मों का यदि बन्ध हो चुका है; तो उनका शुभाशुभ फल भोगना अनिवार्य है – भविष्य में कर्म न किये जायें तो भी कृत कर्मों का फल भोगना ही पड़ेगा, अन्यथा मुक्ति नहीं हो सकती|

- उत्तराध्ययन सूत्र 4/3

Did you like it? Share the knowledge:


Advertisement

No comments yet.

Leave a comment

Leave a Reply

Connect with Facebook

OR