post icon

अधिक न हँसे

अधिक न हँसे

अतिवेलं न हसे मुणी

मुनि कभी मर्यादा से अधिक न हँसे

हँसना और सदा हँसमुख रहना स्वास्थ्य के लिए आवश्यक है | जो व्यक्ति उदास बन कर दिनभर मुँह फुलाये हुए बैठा रहता है – सबको अपना दुःखड़ा सुनाता रहता है – दूसरों के साथ मारपीट और बकझक करता रहता है, ऐसा चिड़चिड़ा आदमी क्या कभी स्वस्थ रह सकता है ? कभी नहीं|

यह जीवन हँसने के लिए है, रोने के लिए नहीं| दूसरों को हँसाने के लिए है, रुलाने के लिए नहीं| सङ्कटों से रोने वाले की बुद्धि कुण्ठित हो जाती है और तब सङ्कटों से बच निकलने का उपाय भी नहीं सूझ पाता| इसके विपरीत प्रसचित व्यक्ति में बुद्धि का निवास रहता है| सङ्कटों में भी जो व्यक्ति हँसमुख बना रहता है, उसे सङ्कटों से पार निकलने का कोई-न-कोई मार्ग भी अवश्य सूझ जाता है|

मौन रहने वाला मुनि है| उसे भी प्रसचित्त रहना चाहिये – हँसना चाहिये| हँसना बुरा नहीं है, बुरा है मर्यादा से अधिक हँसना – बहुत देर तक हँसना | मुनियों को चाहिये कि वे कभी मर्यादा से अधिक न हँसें|

- सूत्रकृतांग सूत्र 1/6/26

Did you like it? Share the knowledge:


Advertisement

No comments yet.

Leave a comment

Leave a Reply

Connect with Facebook

OR