post icon

परलोक में

परलोक में

इहलोगे सुचिण्णा कम्मा परलोगे
सुहफल विवाग संजुत्ता भवन्ति

इस लोक में किये हुए सत्कर्म परलोक में सुखप्रद होते हैं

जिन अच्छे कार्यों का सुफल इस लोक में अर्थात् इस भव में नहीं मिल पाता, उनका सुफल अगले भव में अथवा परलोक में प्राप्त होता है|

बहुत-से व्यक्ति जब देखते हैं कि इस दुनिया में बहुतसे धूर्त, बदमाश, ठग, लुटेरे चोर और चार सौ बीस सुख भोग रहे हैं – एवं साधु-संयमी, सद्गुणी, परोपकारी, धर्मात्मा, सज्जन कष्ट पा रहे हैं – दुःख भोग रहे हैं; तो उनका विश्‍वास धर्म से हटने लगता है|

ऐसे लोगों को समझाते हुए ज्ञानी कहते हैं कि धर्म का परोपकार का सुफल यदि किसीको इस भव में प्राप्त नहीं हो रहा हो; तो भी उसे निराश नहीं होना चाहिये; क्यों कि धर्म कभी निष्फल नहीं होता| वह इस भव में नहीं फलता तो क्या हुआ ? परभव में अवश्य फलेगा और उस समय कई गुना अधिक फल देगा|

आत्मा अमर है| शरीर के नष्ट हो जाने पर वह परलोक में पैदा होती है और वहॉं इस लोक के सत्कर्म अपना सुफल देते हैं|

- स्थानांग सूत्र 4/2

Did you like it? Share the knowledge:


Advertisement

No comments yet.

Leave a comment

Leave a Reply

Connect with Facebook

OR