post icon

खाने-पीने की मात्रा

खाने पीने की मात्रा

माइ असणपाणस्स

खाने-पीने की मात्रा के ज्ञाता बनो

जो मनुष्य स्वाद का गुलाम बन जाता है, उसे भोजन की मात्रा का ज्ञान नहीं रहता| वह अपने पेट पर दया नहीं करता और ठूँस-ठूँस कर खाता है| प्रकृति ऐसे व्यक्ति को बिल्कुल क्षमा नहीं करती| उसमें अजीर्ण पैदा कर देती है, जो समस्त बीमारियों का बीज है|

यही बात पीने की वस्तुओं के लिए भी कही जा सकती है| स्वाद-लोलुप व्यक्ति पेय पदार्थों की मात्रा के विषय में तो और भी अधिक लापरवाह होता है| भ्रम से वह मान बैठता है कि पेयपदार्थ तो पेट में आसानी से पच ही जायेंगे | दही की लस्सी, दूध, शर्बत, सोडा-लेमन, गोल्डस्पाट, कोकाकोला, चाय, काफी, शहद, शराब, गे का रस आदि सैंकड़ो वस्तुएँ बाजार में बिकती हुई वह देखता है और स्वाद का सुख भोगने के लिए एक के बाद एक पीता ही रहता है| वह भूल जाता है कि इन्हें पचाने के लिए भी पेट को श्रम करना पड़ता है| न पचने पर इनसे भी अनेक रोग उठ खड़े होते हैं और डॉक्टरों के दरवाजे खटखटाने को व्यक्ति विवश हो जाते हैं|

सुज्ञ मात्रा के अनुसार ही खाते-पीते हैं, अधिक नहीं|

- उत्तराध्ययन सूत्र 2/3

Did you like it? Share the knowledge:


Advertisement

No comments yet.

Leave a comment

Leave a Reply

Connect with Facebook

OR