post icon

दुःखप्रदायकता

दुःखप्रदायकता

सव्वे कामा दुहावहा

सभी काम दुःखप्रद होते हैं

यहॉं ‘काम’ शब्द का अर्थ कार्य नहीं हैं, तीसरा पुरुषार्थ है| हिन्दी में काम शब्द दोनों अर्थों में प्रचलित है| इस सूक्ति में कामनाओं के त्याग का परामर्श दिया गया है और इसका कारण बताया है – उनकी दुःखदायकता|

किसी भी वस्तु की कामना मन को अशान्त बनाने में समर्थ होती है| जब तक कामना शान्त नहीं होती, तब तक भीतर ही भीतर वह आग की तरह जल कर शान्ति, संतोष एवं सुख को जला कर भस्म करती रहती है|

पॉंचों इन्द्रियों के लिए अनुकूल विषय-सामग्री पाने की कामना होती है और अपनी प्रशंसा सुनने की भी |

कामनापूर्ति से तृप्ति भी होती है; परन्तु वह स्थायी नहीं होती| कामना की पूर्ति के प्रयास में जितना श्रम और समय खर्च होता है, उसके अनुपात में उससे अनुभव में आने वाला सुख बहुत ही कम होता है|

ज्ञानियों ने अपने जीवन के अनुभवों का सार बताते हुए यह घोषणा की है कि इस विश्‍व में सब प्रकार के काम दुःखप्रदायक हैं – त्याज्य हैं|

- उत्तराध्ययन सूत्र 13/16

Did you like it? Share the knowledge:


Advertisement

No comments yet.

Leave a comment

Leave a Reply

Connect with Facebook

OR