post icon

परिहास न करें

परिहास न करें

न यावि पे परिहास कुज्जा

बुद्धिमान को कभी उपहास नहीं करना चाहिये

रोग की जड़ खॉंसी! झगड़े की जड़ हँसी!! यदि द्रौपदी ने हँसी उड़ाते हुए दुर्योधन के लिए ऐसा नहीं कहा होता कि अन्धे के बेटे भी आखिर अन्धे ही होते हैं; तो शायद इतना बड़ा महाभारत युद्ध न हुआ होता|

हम देखते हैं कि हँसी-हँसी में दो घनिष्ट मित्र कट्टर शत्रु बन जाते हैं, एक दूसरे की हत्या करने को तैयार हो जाते हैं| क्षणभर पहले जहॉं एक दूसरे के हित की भावना हृदय में हिलारें ले रही थी, वहीं एक-दूसरे के प्रति दुर्भावना, द्वेष और ईर्ष्या का साम्राज्य छा जाता है| यह सब किसका दुष्परिणाम है? हँसी का ही!

जो प्राज्ञ पुरुष हैं – बुद्धिमान साधक हैं, वे दूरदर्शी होते हैं; इसलिए कुछ भी बोलने या कहने से पहले उसका परिणाम सोच लेते हैं| दुष्परिणाम की सम्भावना होने पर शब्द मुँह से बाहर नहीं निकालते| वे जानते हैं कि उपहास का परिणाम अच्छा नहीं होता; इसलिए वे कभी किसी की हँसी नहीं उड़ाते| शास्त्रकारों ने भी ठीक ही कहा है कि बुद्धिमान साधक अपने जीवन में कभी किसी अन्य व्यक्ति का उपहास न करे |

- सूत्रकृतांग सूत्र

Did you like it? Share the knowledge:


Advertisement

2 Comments

Leave a comment
  1. Dilip Parekh
    मई 31, 2016 #

    ઘોડો ભાંગ્યો ઠેકતા, મન ભાંગ્યું કવેણ,
    મોટી ભાંગ્યું વીન્ઘતા એને નહિ સાંધો કે રેણ.

  2. Dilip Parekh
    मई 31, 2016 #

    एक ने पूछा कि “जीवन कैसे अच्छा हो?”
    संत : “एक तो मधुर बोलिए, दूसरा कि किसी के अवगुण प्रगट ना करे और तीसरा अपने अवगुण को दूर करके सदगुण को अपनाया करे।”

Leave a Reply

Connect with Facebook

OR