post icon

पीठ का मांस न खायें

पीठ का मांस न खायें

पिट्ठिमंसं न खाएज्जा

पीठ का मांस नहीं खाना चाहिये अर्थात् किसी की निन्दा उसकी अनुपस्थिति में नहीं करनी चाहिये

किसीकी पीठ पीछे बुराई करना अपनी कायरता का प्रतीक है| यदि किसी की बुराई को नष्ट करना हमारा उद्देश्य है तो हमें उसकी बुराई उसके सामने ही प्रकट करनी चाहिये, जिससे कि विचार करके वह उसे छोड़ सके|

किसीके मुँह पर उसके दोष बताना अपनी निर्भयता का या साहस का कार्य है; परन्तु दोष बताते समय एकान्त होना चाहिये| यदि हम अन्य लोगों के बीच में किसी के दोष बताते हैं तो वह क्षोभजनक निन्दा बन जाती है| उसमें दोषी को सुधारने की हितैषितापूर्ण मनोवृत्ति के स्थान पर उसे अपमानित करके अपने अहंकार का पोषण करने की द्वेषपूर्ण मनोवृत्ति काम करने लगती है| यह बुरी बात है| सुधारने के लिये यह आवश्यक है कि हम दोषी के दोष एकांत में मधुर शब्दों के द्वारा बतायें| इससे वह दोषों को छोड़ने का और अपने आपको सुधारने का प्रयास कर सकता है|

किसी की अनुपस्थिति में उसकी निन्दा करना तो भयंकर पाप है – पीठ का मांस खाने के समान है; इसलिए सर्वथा त्याज्य है|

- दशवैकालिक सूत्र 8/47

Did you like it? Share the knowledge:


Advertisement

No comments yet.

Leave a comment

Leave a Reply

Connect with Facebook

OR