post icon

वीर्यको न छिपायें

वीर्यको न छिपायें

नो निह्नवेज्ज वीरियं

वीर्य को छिपाना नहीं चाहिये

जो शक्तिशाली हैं, उन्हें अपनी शक्ति का प्रयोग दूसरों की रक्षा के लिए करना चाहिये|

जो बुद्धिमान हैं, उन्हें अपनी बुद्धि का उपयोग दूसरों के झगड़े मिटाने में करना चाहिये|

जो विद्वान हैं, उन्हें अपनी विद्वत्ता का प्रयोग दूसरों का अज्ञान मिटाने में करना चाहिये|

जो कलाकार हैं, उन्हें अपनी कला का प्रयोग दूसरों का पवित्र आनन्द बढ़ाने में करना चाहिये|

जो धनवान हैं, उन्हें अपने धन का उपयोग निर्धनों की सहायता में करना चाहिये|

जो कानून के पण्डित हैं – वकील हैं, उन्हें अपनी वकालत का प्रयोग दूसरों को झूठे आरोपों से मुक्त कराने में करना चाहिये|

जो वीर हैं, उन्हें अपनी वीरता का प्रयोग दूसरों को साहसी बनाने में करना चाहिये|

आशय यह है कि सब लोग दूसरों की भलाई में अपनी शक्ति, बुद्धि, विद्या, कला, सम्पत्ति आदि का उपयोग करते रहें; कभी अपने वीर्य पराक्रम को न छिपायें|

- आचारांग सूत्र 1/5/3

Did you like it? Share the knowledge:


Advertisement

No comments yet.

Leave a comment

Leave a Reply

Connect with Facebook

OR