post icon

जीने की विधि

जीने की विधि

पक्षं कञ्चन नाश्रयेत्
या तो अकेले ही जीने की कला सीख लेनी चाहिए या फिर सहजीवन – समूहजीवन जीने का तरीका समझ लेना चाहिए|

परस्पर एक दूसरे को समझे बिना एक दूसरे को सहे बगैर सह- जीवन संभावित नहीं हो सकता|

अपने आप से प्रश्‍न कीजिए कि मैं किसी के अनुसार जीवन को ढाल सकता हूँ ? यदि नहीं तो फिर औरों से यह अपेक्षा क्यों रखनी चाहिए… कि वे हमारी इच्छा के मुताबिक जिएं?

मन को निराग्रही बनाकर तो साथ जिया जा सकेगा| दुराग्रही व्यवहार से हम कठोरतम होते जा रहे हैं ऐसे में न किसी की सहानुभूति टिकती है न कोई स्थायी-मधुर सम्बन्ध बनता है|

यह आलेख इस पुस्तक से लिया गया है
Did you like it? Share the knowledge:


Advertisement

No comments yet.

Leave a comment

Leave a Reply

Connect with Facebook

OR