post icon

कामों की कामना

कामों की कामना

कामी कामे न कामए, लद्धे वा वि अलद्ध कण्हुइ

साधक कामी बनकर कामभोगों की कामना न करे| उपलब्ध को भी अनुपलब्ध समझे| प्राप्त भोगों पर भी उपेक्षा करे|

काम-भोगों का त्याग कर के जो प्रवृजित हो जाते हैं – दीक्षित हो जाते हैं, उन्हें फिर से कामुक बनकर कामभोगों की कामना कभी नहीं करनी चाहिये और न उनकी प्राप्ति के लिए कोई प्रयत्न ही करना चाहिये|

यहॉं तक कि यदि बिना किसी प्रयत्न के सहज ही कामभोग के विषय उपलब्ध हो जायें; तो भी उन्हें अनुपलब्ध ही समझना चाहिये अर्थात् उन पर सर्वथा उपेक्षा रखनी चाहिये| आत्मकल्याण के पथ पर आगे बढ़ने के लिए कामभोगों के प्रति यह उपेक्षावृत्ति बहुत सहायक होगी|

साधारण व्यक्ति भी कामनाएँ करते रहते हैं| यदि साधक भी ऐसी कामनाएँ करने लगे; तो दोनों में फिर अन्तर ही क्या रह जायेगा ? अतः साधकों के लिए सर्वथा त्याज्य है – यह कामों की कामना|

- सूत्रकृतांग सूत्र 1/2/3/6

Did you like it? Share the knowledge:


Advertisement

No comments yet.

Leave a comment

Leave a Reply

Connect with Facebook

OR