post icon

भगवान सत्य

भगवान सत्य

तं सच्चं भगवं

सत्य ही भगवान है

भगवान, ईश्वर, गॉड, अल्लाह, खुदा आदि परमात्मा के विभिन्न नाम हैं| जगत में परमात्मा ही सर्वोच्च सत्ता पर प्रतिष्ठित है; परन्तु वह परमात्मा कैसा है ? उसका स्वरूप क्या है ? इस विषय में विभिन्न दार्शनिकों के विभिन्न मत हैं|

कोई उसे साकार मानता है, कोई निराकार – कोई सगुण मानता है, कोई निर्गुण-कोई उसे जगयिन्ता कहता है, कोई उसे जगत से निर्लिप्त-कोई उसे न्यायकर्त्ता एवं दण्डदाता मानता है; तो कोई उसे तटस्थ वीतराग|

अनेकान्तवादी इन सारे मतों को सापेक्ष सत्य मानता है; इसलिए उसकी दृष्टि में सत्य ही भवभयमोचक भाग्यविधाता भगवान है|

एकान्तवादी मिथ्यात्वी है, क्योंकि वह केवल अपने ही मत पर अड़ा रहता है – उसकी दृष्टि संकीर्ण होती है – किसी भी सिद्धान्त को वह दूसरों के दृष्टिकोण से समझने की कोशीश नहीं कर सकता – वह इतना मताग्रही अथवा दुराग्रही बन जाता है कि दूसरों के दृष्टिकोण को समझना तो दूर, वह सुनना भी पसन्द नहीं करता|

इसके विपरीत अनेकान्तवादी बड़ा सहिष्णु और उदार होता है – सम्यग्दर्शी होता है – सभी दृष्टिकोणों को सुनने समझने के लिए तत्पर रहता है, क्योंकि उसके लिए सत्य ही भगवान है|

- प्रश्‍नव्याकरण 2/2

Did you like it? Share the knowledge:


Advertisement

No comments yet.

Leave a comment

Leave a Reply

Connect with Facebook

OR