post icon

बन्धनमुक्त नहीं हो सकता

बन्धनमुक्त नहीं हो सकता

न यावि मोक्खो गुरुहीलणाए

गुरुजनों की अवहेलना करनेवाला कभी बन्धनमुक्त नहीं हो सकता|

परतन्त्रता बन्धन है, स्वतन्त्रता मुक्ति| सुख स्वतन्त्रता में ही रहता है, परतन्त्रता में नहीं| कहावत है कि पराधीन व्यक्ति स्वप्न में भी सुखी नहीं हो सकता|

हम देखते हैं कि एक झरना कलकल निनाद करता हुआ बहता है| उसकी ध्वनि मनमोहन होती है – मधुर होती है| उसमें वह मधुरता कब से पैदा हुई ? तभी से जबसे वह पर्वतीय कठोर चट्टानों के बन्धन से स्वतन्त्र हुआ|

जो तोता किसी के पिंजड़े में कैद है, उसे उत्तम फलों का रस पीने में भी उतना आनन्द नहीं आ सकता, जितना किसी स्वतन्त्र तोते को केवल पानी पीने में आता है|

साधु, मुनिराज अथवा आध्यात्मिक गुरु स्वयं सांसारिक बन्धनों से मुक्त होते हैं और वे दूसरों को भी बन्धनमुक्ति का मार्ग बताते रहते हैं| ऐसे गुरुओं की उपासना करके हम उनसे स्वतन्त्र रहने का पाठ सीख सकते हैं| यदि हम उनकी उपासना के बदले उनकी अवहेलना करें – उपेक्षा करें – अपमान करें; तो भला कैसे हम उनके जीवन और उपदेशों से लाभान्वित हो सकेंगे ?

इसलिए कहा गया है कि गुरुजनों की अवहेलना करनेवाला बन्धनमुक्त नहीं हो सकता|

- दशवैकालिक सूत्र 6/1/7

Did you like it? Share the knowledge:


Advertisement

No comments yet.

Leave a comment

Leave a Reply

Connect with Facebook

OR