post icon

प्रभु! तेरे नयनकी बलिहारी

Listen to प्रभु! तेरे नयनकी बलिहारी

श्री अभिनंदन जिन स्तवन
राग : भैरवी

प्रभु ! तेरे नयनकी बलिहारी.
याकी शोभा विजीत तपसा,
कमल करतु है जलचारी;
विधुके शरण गयो मुख-अरिके,
वनथें गगन हरिण हारी.

…प्र.१

सहजहि अंजन मंजुाल निरखत,
खंजन गर्व दियो दारी;
छीन लही है चकोरकी शोभा,
अग्नि भखे सो दु:ख भारी

…प्र.२

चंचलता गुण लीयो मीनको,
अलि ज्युं तारी हे कारी;
कहु सुभगता केति इनकी,
मोही सबही अमरनारी.

…प्र.३

घुमत है समता रस माते,
जैसे गजवर मदवारी;
तीन भुवनमें नही कोई नीको,
अभिनंदन जिन अनुकारी.

…प्र.४

मेरे मन तो तुंही रूचत है,
परे कोण परकी लारी;
तेरे नयनकी मेरे नयनमें,
जश कहे दीओ छबी अवतारी.

…प्र.५

यह आलेख इस पुस्तक से लिया गया है
Did you like it? Share the knowledge:


Advertisement

No comments yet.

Leave a comment

Leave a Reply

Connect with Facebook

OR