post icon

चहक एक चिड़िया की

चहक एक चिड़िया की
एक पेड़ पर चिड़िया अपनी मस्ती में चहक रही थी| उस पेड़ के नीचे एक भक्त विश्राम कर रहा था| चिड़िया की चहक सुनकर भक्त बोला, ‘‘अहा ! चिड़िया भी भगवान को याद कर रही है|’’

एक बनिये ने भक्त की यह बात सुनकर पूछा, ‘‘सो कैसे?’’

भक्त बोला, ‘‘चिड़िया बोल रही है – राम- सीता, दशरथ| राम-सीता, दशरथ|’’ तब बनिया बोला, ‘‘नहीं, यह तो कह रही है – धनिया, मिर्च, अदरक| धनिया, मिर्च, अदरक|’’ इतने में एक पहलवान वहॉं आ गया| उसने कहा, ‘‘यह चिड़िया तो व्यायाम का महत्त्व बता रही है| यह कह रही है – दण्ड, कुश्ती, कसरत| दण्ड, कुश्ती, कसरत|’’

वहीं एक बुढिया एक ओर बैठी चरखा कात रही थी| उसने कहा, ‘‘अजी ! यह चिड़िया तो कह रही है – चरखा, पूनी, चमरख| चरखा, पूनी, चमरख|’’

उन सबकी इस प्रकार बातें चल रही थीं कि एक मौलवी साहब वहॉं आ गये| उन्होंने कहा, ‘‘अरे यह चिड़िया तो अपने बनाने वाले खुदा को याद कर रही है| यह कह रही है अल्लाह तेरी कुदरत| अल्लाह तेरी कुदरत|’’

इस प्रकार भिन्न-भिन्न लोगों ने अपनी- अपनी समझ के अनुसार भिन्न-भिन्न कल्पनाएँ कीं; पर चिड़िया तो केवल चहक रही थी| उसे इनमें से कोई भी अर्थ मालू नहीं था|

सच ही है – जाकी रही भावना जैसी| प्रभु मूरत देखी तिन जैसी|

यह आलेख इस पुस्तक से लिया गया है
Did you like it? Share the knowledge:


Advertisement

2 Comments

Leave a comment
  1. chandan kumar
    जनवरी 14, 2013 #

    Nice work. May all ur staff attain the goal of salvation,ultimate peace be upon you. Many many thanks from bottom of my heart. Please be the way you all are.

    • Tattva Gyan
      जनवरी 14, 2013 #

      Thanh You so much for your kind words. Also please help us spread the word.

Leave a Reply

Connect with Facebook

OR