post icon

प्रार्थना में मॉंग न हो

प्रार्थना में मॉंग न हो
प्रार्थना का मार्ग समर्पण का मार्ग है| प्रार्थना याचना नहीं अर्पणा है| जिससे हृदय के द्वार स्वयमेव खुलते हैं| सूरज का उदय हो और फूल न खिलें तो समझना कि वह फूल नहीं पत्थर है… परमात्मा की प्रार्थना हो और हमारा हृदय न खिले तो जानना चाहिए वह हृदय नहीं पत्थर है| प्रार्थना में जब मॉंग आती है तो भक्त उपासक न रहकर याचक बन जाता है| प्रार्थना एक निष्काम कर्म है| जब भक्त तन्मय होकर प्रार्थना में लग जाता है तो उसकी सारी इच्छाएं स्वतः समाप्त हो जाती है| एक भक्त की सच्ची प्रार्थना इस प्रकार होनी चाहिए…|

करो रक्षा विपत्ति से न ऐसी प्रार्थना मेरी|
विपत्ति से भय नहीं खाऊँ प्रभु ये प्रार्थना मेरी॥
मिले दुःख ताप से शान्ति न ऐसी प्रार्थना मेरी|
सभी दुःखों पर विजय पाऊँ, प्रभु ये प्रार्थना मेरी॥

यह आलेख इस पुस्तक से लिया गया है
Did you like it? Share the knowledge:


Advertisement

2 Comments

Leave a comment
  1. Anil Doshi
    अक्टूबर 13, 2013 #

    Excellent..!!
    Nice message..!!

  2. Jashvant Shah
    अगस्त 3, 2015 #

    Jai jinendra.

    Basically according to my understanding of Jain Darshan, there is no scope of ” Prarthna”.But ” Stuti ” wherein the virtues of Tirthankars of of such paramestis are recalled and reciated. As it is stated in the Mangalacharan of ” Tattvarth Sutra ” by Shri Umaswatiji ” Vande tava guna labdhaye “.

Leave a Reply

Connect with Facebook

OR