post icon

दिव्य शक्ति जागृत कब होगी?

दिव्य शक्ति जागृत कब होगी?
जबकि तुम निंदा, ईर्षा, छिद्रान्वेषण, चञ्चलता और मोह से बचकर प्रेम समभाव एवं सन्तोष से अपने मन को सुशिक्षित करोगे|

भय मनुष्य का भयंकर शत्रु है, इसकी जड़ को मन से निर्मूल कर दो, पतन की ओर ले जाने वाली चिंताओं को हृदय से सदा के लिए अलग कर दो| ध्वंसकारी विचार ही तुम्हें निर्बल और मुर्दा बनाते हैं| इससे न तो जीवन को नवीन प्रकाश मिलता है न नसों में नए रक्त का संचार होता है| रक्त संचार के अभाव में मनुष्य दीन हीन बन, असमय में युवावस्था से हाथ धो, अपनी शक्ल सूरत को बूढेपन में बदल देता हैं|

कर्मठ बनो, जो होता है सो होकर रहेगा| व्यर्थ की चिन्ताओं से घुट घुट कर मरना पाप है| गड़े पत्थर, मरे मुर्दें मत उखाड़ो| आत्म चिंतन करो| अपने मन मन्दिर में आज से निष्काम प्रेम, समभाव, सन्तोष एवं सहृदयता की स्थापना कर कायर जीवन की रंगभूमि को ही बदल दो| निम्न गीत सदा मन ही मन गुन गुनाते रहो|

(तर्ज – ओ दूर जाने वाले…)

आनंद शांति मय हम, मंगल स्वरुप पाएं|
अविचल विमल सु-पद में, अविलम्ब जा समाएं ||1||

अरिहन्त सिद्ध शरण है, परमात्म भाव अपना|
जग का ममत्व सारा, समझा अनित्य सपना||2||

हम हैं सदा अकेले, क्यों मुग्ध मन बनाएं|
अविचल विमल सु-पद में, अविलम्ब जा समाएं||3||

अपवित्र देह की अब, आसक्ति छोड़ देंगे|
मिथ्यात्व अव्रतों से निज वृत्ति मोड़ देंगे||4||

सम्यक्त्व धर्म संयम, तप में हृदय रमाएं|
अविचल विमल सु-पद में, अविलम्ब जा समाएं||5||

इस गीत का बार बार चिंतन करने से तुम्हारे हृदय में एक आनन्द की अपूर्व लहर दौड़ने लगेगी, आपके दिल का पुराना उजड़ा बाग हरा-भरा होकर रहेगा| तुम अपने अन्दर एक विशेष स्फूर्ति का अनुभव करोगे| तुम्हारा मन आनन्द और उत्साह से भर जायेगा|

यदि मानव आत्म-पुरुषार्थ का वास्तविक प्रयोग कर वीतराग दशा की ओर लगन लगा ले तो, वह सहज ही जन्म जन्मान्तर के कर्मों से मुक्त हो मोक्ष-श्री प्राप्त कर लेता है|

यह आलेख इस पुस्तक से लिया गया है
Did you like it? Share the knowledge:


Advertisement

No comments yet.

Leave a comment

Leave a Reply

Connect with Facebook

OR