post icon

आरंभ से बच्चों में संस्कार डालें

आरंभ से बच्चों में संस्कार डालें
1. शरीर और वस्त्रों की सफाई का पूरा ध्यान रखना|

2. भोजन से पहले और बाद में मुँह हाथ साफ करना|

3. पेट, दांतों, बालों तथा हाथों को सदा साफ रखना|

4. निश्चित स्थान पर ही कफ, थूक, मलमूत्र त्यागना|

5. बाजार की मिठाइयां, होटलों की चाय नमकीन से बचकर अपने स्वास्थ्य का पूरा ध्यान रखना| आलू, मूला, गाजर आदि अभक्ष अनंत काय से दूर रहना|

6. मुँह, नाक, कान में बार बार अंगुली नहीं डालना|

7. खांसते समय हमेशा रुमाल का उपयोग करना, आसपास की जगह गंदी न करना|

बच्चों को आत्म निर्भर बनने की विशेष शिक्षा दें| स्वयं न्हाना, धोना, कपड़े पहनना, साफ-सफाई करना, अपनी पुस्तकें, बिस्तर, कपड़े, बर्तन आदि वस्तुएं उठा कर यथा स्थान रखना| अतिथि मेहमानों का स्वागत करना| अपनी दिनचर्या बड़े मनोयोग से करना|

बच्चों के समय का महत्व समझें अपने अल्प स्वार्थ के लिए उनके अध्ययन मे विघ्न न डालें| बच्चों को मारपीट कर अपने अपमान की खाई न खोदें|

बच्चों को आज्ञा देते समय आपकी आवाज अधिकार पूर्ण ढंग से न होकर सप्रेम निवेदन के रुप में हो| बच्चों में आप अविश्‍वास न रखें और न उन्हें बदनाम करें| अवसर देख प्रेम से समझाएं|

अनजान में पट्टी फूटने, खेल कूद में कपड़े फटने पर बच्चों को दण्ड न दें| उसे प्रेम से हानि लाभ समझावें|

यह आलेख इस पुस्तक से लिया गया है
Did you like it? Share the knowledge:


Advertisement

1 Comment

Leave a comment
  1. Dilip Parekh
    अप्रेल 27, 2015 #

    यह छोटी छोटी लगनेवाली बातो से ही अच्छा चारित्र्य गठन होगा. अपनी संतति ही हमारी सही संपत्ति है. अच्छे संस्कारो तथा धर्म भावना देना मातापिता का परम कर्तव्य है.

Leave a Reply

Connect with Facebook

OR