1 0 Archive | Audio RSS feed for this section
post icon

चोत्रीश अतिशयवंत

Listen to चोत्रीश अतिशयवंत

भाव : दान धर्म…ना बधाज मुख्य प्रकारनी समजण

चोत्रीश अतिशयवंत,
समवसणे बेसी हो जगगुरु;
उपदेशे अरिहंत,
दानतणा गुण हो पहेले सुखकरू.

…१

Read the lyrics

Leave a Comment
post icon

में कीनो नहीं तुम बीन और शुं

Listen to में कीनो नहीं तुम बीन और शुं

श्री सुविधिनाथ जिन स्तवन
राग : भजोरी प्यारो नमिजीणंद.. (भीमपलाश)
Continue reading “में कीनो नहीं तुम बीन और शुं” »

Leave a Comment
post icon

सुविधि जिनेसर पाय नमीने

Listen to सुविधि जिनेसर पाय नमीने

श्री सुविधिनाथ जिन स्तवन
राग : केदारो – ‘‘एम धन्नो धणने परचावे रे…’’ ए देशी

सुविधि जिनेसर पाय नमीने, शुभ करणी एम कीजे रे;
अति घणो ऊलट अंग धरीने, प्रह ऊठी पूजीजे रे.

…सुविधि.१

Read the lyrics

Leave a Comment
post icon
post icon

अवधू ! आज सुहागन नारी

Listen to अवधू ! आज सुहागन नारी

आज सुहागन नारी अवधू ! आज सुहागन नारी,
मेरे नाथ आप सुध लीनी कीनी निज अंगचारी.

…सुहा.१

Read the lyrics

Leave a Comment
post icon

शील सुरंगीरे सुलसा महासती

Listen to शील सुरंगीरे सुलसा महासती

राग : अरणीक मुनिवर चाल्या गोचरी
भाव : सुलसा महासतीना समकित-समता शील नी सुगंध

शील सुरंगीरे सुलसा महासती,
वर समकित गुण धारीजी;
राजगृही पूरे नाग रथिक तणी,
सुलसा नामे नारीजी.

…शी.१

Read the lyrics

Leave a Comment
post icon
post icon

मनडुं हाथन आवे हो, पद्म प्रभ!

Listen to मनडुं हाथन आवे हो, पद्म प्रभ!

श्री पद्मप्रभु जिन स्तवन
राग : मनडुं किम हि न बाजे हो कुंथुजिन…
Continue reading “मनडुं हाथन आवे हो, पद्म प्रभ!” »

Leave a Comment
post icon

हो अविनाशी

Listen to हो अविनाशी

श्री पद्मप्रभु जिन स्तवन
राग : सुण चंदाजी…
Continue reading “हो अविनाशी” »

Leave a Comment
post icon

निशदिन जोवुं वाटडी

Listen to निशदिन जोवुं वाटडी

निशदिन जोवुं वाटडी घर आवो रे ढोला,
मुज सरिखी तुज लाख हैमेरे तू ही ममोला.

…निशदिन.१

Read the lyrics

Leave a Comment
Page 1 of 712345...Last »