1 0 Tag Archives: आचार्य लब्धि सूरीजी
post icon

प्राणी सब चेतो

Listen to प्राणी सब चेतो

राग : माढ. मेरे गमका तराना
भाव : परनारी त्याग ने पापत्यागनी प्रेरणा

प्राणी सब चेतो, बात लो ए तो,
दिल विषे उतार;
तुम आतम तारी, सुख करनारी,
बात हमारी दिल विषे उतार.
पाप न करना, दु:खसे डरना,
हरना विषय कषाय;
परनारीको मात समजकर,
उससे लो दिल हटाय रे.

…प्राणी.१

Read the lyrics

Leave a Comment
post icon

बंभसारे वनमां भमतां

Listen to बंभसारे वनमां भमतां

राग : नवो वेष रचे
भाव : जीवननी अनाथता नो परिचय ने श्रेणीक ने अनाथी मुनिनो सद्बोध

बंभसारे वनमां भमतां,
ऋषी दीठो रयवाडी रमतां;
रुप देखीने मने रीझयो,
भारे करमी पण भदज्यो.

…१

Read the lyrics

Leave a Comment
post icon

मोह से तेरा कमाया

Listen to मोह से तेरा कमाया

राग : एशके सामान सब एक दिन यहां रह जायेंगे
भाव : दुन्यवी चीजनी नश्‍वरता, आवता जन्मनी चिंता

मोहनो त्याग ने धर्मनो राग
मोह से तेरा कमाया, धन यहां रह जायगा;
प्रेमसे अति पुष्ट कीया, तन जलाया जायगा.
प्रभुभजनकी भावना बीन, परलोकमें क्या पायेगा
कुच्छ कमाइ यहां न कीनी, खाली हाथे जायेगा.

…मोहसे.१

Read the lyrics

Leave a Comment
post icon

तारा मुखडा उपर जाउं वारी

Listen to तारा मुखडा उपर जाउं वारी

(राग : ओली चंदनबाळाने बारणे)
भाव : चंदनबाळा नी प्रभुवीर प्रत्येनी शुभ भावना

बतारा मुखडा उपर जाउं वारी रे,
वीर मारां मन मान्या, तारा दर्शननी बलिहारी रे वीर,
मुठी बाकुळा माटे आव्या रे; मने हेत धरी बोलाव्या रे.

…वीर.१

Read the Lyrics

Leave a Comment
post icon

बनी मिट्टी की सब बाजी

Listen to बनी मिट्टी की सब बाजी

राग : गझल
भाव : आत्मा एक सोनुं बाकी बधु माटी… माटे आत्मा दशानी शोधनो संदेश

बनी मिट्टीकी सब बाजी, उसीमें होत क्यों राजी
मिट्टी का है शरीर तेरा, मिट्टीका कपडा पहेरा;
मिट्टी का म्हेल रहा छाजी, उसीमें होत क्यों राजी.

…बनी. १

Read the lyrics

Leave a Comment
post icon

मत बन विषय विलासी रे मनवा

Listen to मत बन विषय विलासी रे मनवा

राग : कित गुण भयो है उदासी बिहाग
भाव : विषय विलास = आत्म विनाश एना त्यागनी पावन प्रेरणा

मत बन विषय विलासी रे मनवा,
ए जबरी जग फांसी. रे मनवा.
हतस्त हरिण मच्छ भ्रमर पतंग,
एक एक विषयना आशी.

…रे म.१

Read the lyrics

Leave a Comment
post icon

जनक सुता हुं नाम

Listen to जनक सुता हुं नाम

भाव : महासती सीतानो रावणने पडकार ने शील दृढता

जनक सुता हुं नाम धरावुं,
राम छे अंतर जामी;
पालव मारो मेलोने पापी,
कुळने लागे छे खामी.
अडशो मांजो, मांजो मांजो मांजो मांजो अडशो,
म्हारो नावलीयो दुहवाय,
मने संग केनो न सुहाय;
म्हारुं मन मांहेथी अकळाय.

…अ.१

Read the lyrics

Leave a Comment
post icon

पूरण सुख शिवसद्मना

Listen to पूरण सुख शिवसद्मना

श्री श्रेयांश्नाथ जिन स्तवन
राग : परमातम पूरण कला…
Continue reading “पूरण सुख शिवसद्मना” »

Leave a Comment
post icon

जैन कहो क्युं होवे

Listen to जैन कहो क्युं होवे

भाव : जैनो नी परिभाषाने अने साचा जैनत्वने समजावतु वर्णन

जैन कहो क्युं होवे, परमगुरु!
जैन कहो क्युं होवे
गुरु उपदेश बिना जन मूढा,
दर्शन जैन विगोवे.

…परम.१

Read the lyrics

Leave a Comment
post icon

करवुं होय ते थाय करमने

Listen to करवुं होय ते थाय करमने

राग : लख्युं होय ते थाय भविष्यमां सजनवा वैरी हो गइ हमार
भाव : कर्मसत्तानी अमाप ताकात अने ए ताकातने पडकारती धर्मसत्ता

करवुं होय ते थाय करमने करवुं होय ते थाय;
जीवे जाच्युं काम न आवे,
धार्युं निरर्थक जाय.

…करमने.१

Continue reading “करवुं होय ते थाय करमने” »

Leave a Comment
Page 1 of 212