1 0
post icon
post icon

Motivational Wallpaper #23

मनुष्य की सबसे बड़ी महानता विपत्तियों को सह लेने में है

Standard Screen Widescreen Mobile
800×600 1280×720 iPhone
1024×768 1280×800 iPad-Vertical
1400×1050 1440×900
1600×1200 1920×1080  
  1920×1200  
  2560×1440  
  2560×1600  

Continue reading “Motivational Wallpaper #23” »

Leave a Comment
post icon

श्रुतशील-तप

श्रुतशील तप

कसाया अग्गिणो वुत्ता,
सुयसीलतवो जलं

कषाय अग्नि है तो श्रुत, शील और तप को जल कहा गया है

क्रोध, मान, माया और लोभ – ये चार कषाय हैं| अग्नि की तरह ये आत्मा को जलाते रहते हैं – अशान्त और क्षुब्ध बनाते रहते हैं| इनसे कैसे बचा जाये ? इसका उपाय इस सूक्ति में बताया गया है| Continue reading “श्रुतशील-तप” »

Leave a Comment
post icon

दुलह नारी तुं बडी बावरी

Listen to दुलह नारी तुं बडी बावरी

दुलह नारी तुं बडी बावरी
पिया जागे तुं सोवे
पिया चतुर हम निपट अग्यानी
न जानु क्या होवे?
न जानु क्या होवे?

…दुलह.१

Read the lyrics

Leave a Comment
post icon

प्रार्थना में मॉंग न हो

प्रार्थना में मॉंग न हो
प्रार्थना का मार्ग समर्पण का मार्ग है| प्रार्थना याचना नहीं अर्पणा है| जिससे हृदय के द्वार स्वयमेव खुलते हैं| सूरज का उदय हो और फूल न खिलें तो समझना कि वह फूल नहीं पत्थर है… परमात्मा की प्रार्थना हो और हमारा हृदय न खिले तो जानना चाहिए वह हृदय नहीं पत्थर है| प्रार्थना में जब मॉंग आती है तो भक्त उपासक न रहकर याचक बन जाता है| प्रार्थना एक निष्काम कर्म है| जब भक्त तन्मय होकर प्रार्थना में लग जाता है तो उसकी सारी इच्छाएं स्वतः समाप्त हो जाती है| एक भक्त की सच्ची प्रार्थना इस प्रकार होनी चाहिए…|

करो रक्षा विपत्ति से न ऐसी प्रार्थना मेरी|
विपत्ति से भय नहीं खाऊँ प्रभु ये प्रार्थना मेरी॥
मिले दुःख ताप से शान्ति न ऐसी प्रार्थना मेरी|
सभी दुःखों पर विजय पाऊँ, प्रभु ये प्रार्थना मेरी॥

यह आलेख इस पुस्तक से लिया गया है
Leave a Comment
post icon

Motivational Wallpaper #2

मनुष्य का जीवन जितना सादा और स्वाभाविक होगा, उसी के अनुसार उसका चित्त अधिक प्रसन्न रहेगा

Standard Screen Widescreen Mobile
800×600 1280×720 iPad-Horizontal
1024×768 1280×800
1400×1050 1440×900
1600×1200 1920×1080  
  1920×1200  
  2560×1440  
  2560×1600  

Continue reading “Motivational Wallpaper #2” »

Leave a Comment
post icon

सम्बन्धों को संभाले

सम्बन्धों को संभाले

पोष्यपोषकः
चाहे ज़िन्दगी कितनी छोटी क्यों न हो परन्तु हम अकेले नहीं जी सकते| हम सम्बन्धों के धागों को बुन लेते हैं| Continue reading “सम्बन्धों को संभाले” »

Leave a Comment
post icon

दुर्लभ श्रद्धा

दुर्लभ श्रद्धा

श्रद्धा परमदुल्लहा

श्रद्धा अत्यन्त दुर्लभ है

धर्म पर श्रद्धा हो तो मनुष्य स्वार्थ का विचार किये बिना भी अपने कर्तव्य पर आरूढ़ हो सकता है| परन्तु यह श्रद्धा हो कैसे ? उसका आचार क्या हो ? Continue reading “दुर्लभ श्रद्धा” »

Leave a Comment
post icon

Motivational Wallpaper #12

ईश्वर ने हर इन्सान को किसी न किसी खूबियों से सज्जित कियिया है|

Standard Screen Widescreen Mobile
800×600 1280×720 iPad-Horizontal
1024×768 1280×800
1400×1050 1440×900
1600×1200 1920×1080  
  1920×1200  
  2560×1440  
  2560×1600  
Leave a Comment
post icon

एक ही गाथा से

एक ही गाथा से

सित्थेण दोणपागं, कविं च एक्काए गाहाए

एक कण से द्रोण-भर पाक की और एक गाथा से कवि की परीक्षा हो जाती है

वस्तु की परीक्षा उसके एक अंश को देखकर भी की जा सकती है| एक चावल को दबा कर यह जाना जा सकता है कि हँडिया भर चावल पके हैं या नहीं| इस जॉंच के लिए सब चावलों को दबाना आवश्यक नहीं है| Continue reading “एक ही गाथा से” »

Leave a Comment
Page 5 of 67« First...34567...102030...Last »