1 0
post icon

अदत्तादान और लोभ

अदत्तादान और लोभ

लोभाविले आययइ अदत्तं

लोभ से कलुषित जीव अदत्तादान (चोरी) करता है

जो वस्तु दे दी जाती है, वह दत्त है और जो नहीं दी गयी, वह अदत्त है| सज्जन केवल दत्त वस्तु को ही ग्रहण करना उचित समझते हैं, अदत्त वस्तु को नहीं| Continue reading “अदत्तादान और लोभ” »

Leave a Comment
post icon

असली और नकली

असली और नकली

राढामणी वेरुलियप्पगासे,
अमहग्घए होइ हु जाणएसु

वैडूर्यरत्न के समान चमकने वाले काच के टुकडे का, जानकारों के समक्ष कुछ भी मूल्य नहीं है

नकली मोती असली मोती से अधिक चमकीला होता है; परन्तु यह वह मूल्य में असली मोती की बराबरी कभी नहीं कर सकता | जानकार दोनों का अन्तर समझ ही लेते हैं| Continue reading “असली और नकली” »

Leave a Comment
post icon

दर्शनावरणीय कर्म

दर्शनावरणीय कर्म
आँखों से देखने की शक्ति कम करता हैं,
कानों से सुनने की शक्ति कम करता हैं, Continue reading “दर्शनावरणीय कर्म” »

Leave a Comment
post icon

अनन्तसुख का नाश मत कीजिये

अनन्तसुख का नाश मत कीजिये

माएयं अवमन्जंता, अप्पेणं लुंपहा बहुं

सन्मार्ग का तिरस्कार करके अल्प सुख (विषयसुख) के लिए अनन्त सुख (मोक्षसुख) का विनाश मत कीजिये

यदि कोई हीरे के बदले कङ्कर ले ले तो उसे आप क्या समझेंगे ? आप समझेंगे, वह मूर्ख है| सुमार्ग के बदले कुमार्ग को अपनाने वाले भी ऐसे ही मूर्ख हैं| Continue reading “अनन्तसुख का नाश मत कीजिये” »

Leave a Comment
post icon

अभोगी नहीं भटकता

अभोगी नहीं भटकता

भोगी भमइ संसारे, अभोगी विप्पमुच्चइ|

भोगी संसार में भटकता है और अभोगी मुक्त हो जाता है

जो इन्द्रियों के वश में रहता है, वह विषयसामग्री को एकत्र करने के लिए निरन्तर प्रयत्नशील रहता है| अनुकूल विषयसामग्री को जुटा कर कभी वह एक इंद्रिय को तृप्त करता है तो कभी दूसरी को| Continue reading “अभोगी नहीं भटकता” »

Leave a Comment
post icon

चंपा

Sorry, this article is only available in English. Please, check back soon. Alternatively you can subscribe at the bottom of the page to recieve updates whenever we add a hindi version of this article.

Leave a Comment
post icon

क्रिया में रुचि

क्रिया में रुचि

किरियं च रोयए धीरो

धीर पुरुष क्रिया में रुचिवाला होता है

बच्चा इसलिए दूध नहीं पीता कि दूध से शरीर को पोषण मिलता है| वह तो केवल इसलिए पीता है कि उसे दूध मीठा लगता है, भाता है| Continue reading “क्रिया में रुचि” »

Leave a Comment
post icon

Motivational Wallpaper #19

बुद्धिमान मनुष्य दूसरे की गलतियों से अपनी गलती सुधारते हैं

Standard Screen Widescreen Mobile
800×600 1280×720 iPhone
1024×768 1280×800 iPad-Horizontal
1400×1050 1440×900 iPad-Vertical
1600×1200 1920×1080  
  1920×1200  
  2560×1440  
  2560×1600  
Leave a Comment
post icon

सुलसा

Sorry, this article is only available in English. Please, check back soon. Alternatively you can subscribe at the bottom of the page to recieve updates whenever we add a hindi version of this article.

Leave a Comment
post icon

क्रोध – एक अग्नि

क्रोध   एक अग्नि
एकबार आये हुए क्रोध में कितने सालों के तप और संयम को भस्मीभूत करने की ताकात है ? यदि कोई ऐसा प्रश्न करें, तो जवाब यह है कि- तप और संयम का उत्कृष्ट काल है देशोन पूर्व क्रोड वर्ष| इतने दीर्घ कालमें तप और संयम की जो साधना कर सकते हैं, उस साधना को भस्मीभूत करने की ताकत एकबार के आये हुए क्रोध में है| Continue reading “क्रोध – एक अग्नि” »

Leave a Comment
Page 10 of 67« First...89101112...203040...Last »