post icon

में कीनो नहीं तुम बीन और शुं

Listen to में कीनो नहीं तुम बीन और शुं

श्री सुविधिनाथ जिन स्तवन
राग : भजोरी प्यारो नमिजीणंद.. (भीमपलाश)

में कीनो नहीं तुम बीन और शुं राग.. (२)
दिन दिन वान वधत गुण तेरो,
ज्युं कंचन पर भाग;
औरनमें है कषायकी कालिमा,
सो क्युं सेवा लाग.

…मैं.१

राजहंस तुं मान-सरोवर,
और अशुचि-रूचि काग;
विषय-भुजंगम गरूड तुं कहीये,
ओर विषय-विषनाग.

….मैं.२

और देव जल-छिल्लर सरीखे,
तुं तो समुद्र अथाग;
तुं सुरतरू जन वांछित पूरण,
और तो सूके साग.

…मैं.३

तुं पुरूषोत्तम, तुं हीं निरंजन,
तुं शंकर वड भाग;
तुं ब्रह्मा, तुं बुध्ध महाबल,
तुं हीं ज देव वीतराग.

…मैं.४

सुविधिनाथ तुम गुन फुलनको,
मेरो दिल है बाग;
जस कहे भ्रमर रसिक होय ताको,
लीजे भक्ति पराग.

…मैं.५

यह आलेख इस पुस्तक से लिया गया है
Did you like it? Share the knowledge:


Advertisement

No comments yet.

Leave a comment

Leave a Reply

Connect with Facebook

OR