post icon

मनडुं हाथन आवे हो, पद्म प्रभ!

Listen to मनडुं हाथन आवे हो, पद्म प्रभ!

श्री पद्मप्रभु जिन स्तवन
राग : मनडुं किम हि न बाजे हो कुंथुजिन…

मनडुं हाथन आवे हो, पद्म प्रभ!
मनडुं हाथन आवे;
यत्न करी निज घरमां राखुं,
पल पल परघर जावे.

… १

ए मनडुं कदी सातमी नरके,
कदी स्वर्गमां वसावे,
कदी मानव कदी तिर्यंच भावे,
भव अटवी भटकावे.

… २

विना खाधे पीधे तन्दुलने,
मनडे मुश्केली कीधी;
अन्तरमुहूर्त-मांही नरकनी,
असह्य वेदना दीधी.

… ३

प्रसन्नचन्द्रने क्षणमां नारक,
क्षणमां स्वर्ग बताव्यो;
क्षणमां केवल-दुंदुभी बाजी,
ए मने केर मचाव्यो.

… ४

क्षण ब्रह्मचारी, क्षण व्यभिचारी,
विरताविरत क्षणमांही;
मदारीना मरकटनी पेरे,
भटकावे आंही तांही.

… ५

ए मनडुं प्रभु तमे वश कीधुं,
ए आगमथी जाण्युं;
तारा शरणथी हुं पण जीतीश,
एम में मनमां आण्युं.

… ६

आत्म कमलमां तेथी व्हाला,
में प्रभु तमने वसाव्या;
लब्धिसूरि जिन सेव्या तेणे,
मिथ्या भाव नसाव्या.

… ७

यह आलेख इस पुस्तक से लिया गया है
Did you like it? Share the knowledge:


Advertisement

No comments yet.

Leave a comment

Leave a Reply

Connect with Facebook

OR