post icon

बनी मिट्टी की सब बाजी

Listen to बनी मिट्टी की सब बाजी

राग : गझल
भाव : आत्मा एक सोनुं बाकी बधु माटी… माटे आत्मा दशानी शोधनो संदेश

बनी मिट्टीकी सब बाजी, उसीमें होत क्यों राजी
मिट्टी का है शरीर तेरा, मिट्टीका कपडा पहेरा;
मिट्टी का म्हेल रहा छाजी, उसीमें होत क्यों राजी.

…बनी. १

घरेणा मिट्टी का तेरा, है मिट्टीका पलंग प्यारा;
तेरा मिट्टी का है वाजी, उसीमें होत क्यो राजी.

…बनी. २

जगतमें वस्तु है जो जो, मिट्टी में सब मिले वो वो;
इसीमें क्यों बना पाजी, उसीमें होत क्यो राजी.

…बनी. ३

दशा निज आत्मकी शोधो, जगत मायासे मन रोधो;
यही एक बात है ताजी, उसीमें होत क्यों राजी.

…बनी. ४

कहे लब्धि सदा सेवो, जिनाधिराज शुद्ध देवो;
बनो शिवसुख के भाजी, उसीमें होत क्यों राजी.

…बनी. ५

यह आलेख इस पुस्तक से लिया गया है
Did you like it? Share the knowledge:


Advertisement

No comments yet.

Leave a comment

Leave a Reply

Connect with Facebook

OR