post icon

अवधू! क्या सोवे तन मठमें

Listen to अवधू! क्या सोवे तन मठमें

अवधू ! क्या सोवे तन मठमें?
जग आशा जंजीर की गति उलटी कुल मोर,
झकर्यो धावत जगतमें रहे छूटो इक ठोर ॥
अवधू ! क्या सोवे तन मठमें?
जाग विलोकन घटमें,
अवधू! क्या सोवे तन मठमें?
तन मठ की परतीत न कीजें,
ढहि परे एक पल में;
हलचल मेटि खबर ले घट की,
चिह्ने रमतां जल में

…अवधू.१

मठ में पंच भूत का वासा,
सासा धूत खवीसा;
छिन छिन तोही छलन कुं चाहे,
समजे न बौरा सीसा

…अवधू.२

शिर पर पंच वसे परमेसर,
घट में सूछम बारी;
आप अभ्यास लखे कोई विरला,
निरखे ‘ध्रू’ की तारी

…अवधू.३

आशा मारी आसन धरी घट में,
अजपाजाप जगावे;
आनंदघन चेतनमय मूरति,
नाथ निरंजन पावे

…अवधू.४

यह आलेख इस पुस्तक से लिया गया है
Did you like it? Share the knowledge:


Advertisement

No comments yet.

Leave a comment

Leave a Reply

Connect with Facebook

OR