post icon

अनुभव ! तुं है हितु हमारो

Listen to अनुभव ! तुं है हितु हमारो

अनुभव ! तुं है हितु हमारो,
आय उपाय करो चतुराई, और को संग निवारो,
अनुभव ! तुं है हितु हमारो

…१

तृष्णा रांड भांड की जाइ कहा घर करे सवारो?
शठ ठग कपट कुटुंब ही पोषे मन में क्युं न विचारो?
अनुभव ! तुं है हितु हमारो

…२

कुलटा कुटिल कुबुद्धि संग खेलके अपनी पत क्युं हारो?
आनंदघन समता घर आवे बाजे जीत नगारो
अनुभव ! तुं है हितु हमारो

…३

यह आलेख इस पुस्तक से लिया गया है
Did you like it? Share the knowledge:


Advertisement

No comments yet.

Leave a comment

Leave a Reply

Connect with Facebook

OR